Tuesday, 1 October 2013

मेरा पत्र - मोहनदास करमचंद गांधी

मेरे देश के भाईयों और बहनों,
नमस्कार
मैं आपका दास, मोहनदास करमचंद गांधी | जिसे आप सभी ने प्यार से ‘बापू’ कहा, ‘महात्मा’ कहा | मगर मैं आज आप सभी को अपने राष्ट्र के हित के लिए कुछ कहना चाहता हूँ | आझादी के बाद देश ने विविध क्षेत्रों में बहुत तरक्की की है, इस बात को मैं जरूर मानता हूँ | विज्ञान और टेकनोलोजी के साथ देश में तरक्की का ग्राफ निरन्तर बढता रहा है| मगर देश के सामने कईं मुश्किलें हैं और चुनौतियाँ हैं |  यूं कहें कि देश में सबकुछ होते हुए भी हम इंसानियत को भूल रहे हैं | इसलिए हमारी सारी मुश्किलों की जड़ इसी में समाहित है| 

देश आज राम का नाम भूल गया है और राम के नाम राजनीति करने वालों का तांता लगा है | मैं था तब की बात ओर थी मगर मेरे जाने के बाद मेरे विचार और मेरे नाम का उपयोग सभी ने अपनी ज़रूरतों के मुताबिक किया है | मैं तो देश का सेवक रहा हूँ और आप सभी का दास | मेरे विचार आज किसी भी राजनीतिक दलों के काम आता हैं तो वो खुशी से उन विचारों को लेकर चलें | मुझे विश्वास है कि अगर मेरे विचारों पर ही अमल किया जाएगा तो इस देश को किसी भी तरह का नुकसान तो नहीं होगा |  आझादी के बाद ही मैंने तुरंत कहा था कि अब कांग्रेस का कार्य सम्पन्न हो गया है | कांग्रेस को बिखेरने का समय आ गया है | मेरे जीते जी यह नहीं हुआ और आज भी कांग्रेस राजनीतिक दल के रूप में कार्य कर रहा है मगर मैं उनमें कहीं भी नहीं हूँ |  

सरदार हम सब के ‘सरदार’ थे, मैं खुद उनसे प्रभावित था | उन्हों ने देश के लिए जो कार्य किया और अपने आप को ‘लोह पुरुष’ के रूप में साबित किया मगर उन्हों ने कभी देश सेवा का दावा नहीं किया | डॉ. आम्बेडकरने उस समय के अनुसार देश के हालातों को मद्देनज़र जो संविधान बनाया वो आज भी प्रस्तुत है | मैं ऐसा कतई नहीं कहा था कि आज के बदलते दौर में देश हित के लिए किसी छोटी सी कलम से  संविधान में शामिल करने की गुंजाईश नहीं है | इसका मतलब यह नहीं कि पूरा संविधान ही बदल दिया जाएं | हमारे संविधान के समकक्ष दुनिया के किसी भी देश का कायदा-क़ानून नहीं हैं | यह मिल का पत्थर है |  

आजकल कांग्रेस देश की सर्वोच्च सत्ता पर है | आनेवाले चुनाव को लेकर देश में जो गर्माहट है उससे भी ज्यादा देश के नेताओं के खिलाफ दर्ज़ भ्रष्टाचार एवं अपराधिक केस के लिए गर्माहट  हैं | आज की स्थित यह है कि कोई  भी पक्ष यह साबित नहीं कर सकता कि उनके साथ एक भी नेता ऐसा नहीं जो भ्रष्टाचार और अपराधिक मामले में शामिल नहीं है | इसका सबसे बड़ा कारण टेकनोलोजी का दुरुपयोग है | मैं टेकनोलोजी का विरोधी नहीं हूँ मगर उसका विवेकपूर्ण उपयोग करने और कराने में हम विफल रहे हैं | चीन अपने देश की जानकारी विश्व को नहीं होने देता | इंटरनेट के माध्यम से हमने देश को दुनिया के सामने इस कदर खुला कर दिया कि हमारे अंदरूनी मामले भी विश्व की चौपाल पर नौटंकी की तरह पेश होने लगे |  

हमें पहले से यह अनुभव है कि हमारे पडौसी देशों पर भरोसा करना मूर्खता है | आज मुझे बेबाक होकर कहना पड़ रहा है कि संविधान के अनुसार देश में अनेक राजनीतिक दलों का जो गठन हुआ है और उन छोटे छोटे दलों के सहारे से बनती कोई भी सरकार उनके सामने घुटने टेकने को मजबूर हो जाती है | यही कारण से अपनी सरकार बचाने का हाई कमांड और साथी दलों के दबाव में हमने देश का एक महान अर्थशास्त्री को खो दिया है | राज्यों के मुख्यमंत्रियों के प्रधानमंत्री बनने के सपने और अभिमान प्रदेश तक सीमित न रहकर देश-दुनिया के सामने अपने देश की नाक कटवा रहा है | विपक्ष के साथ सालों से सहयोग देने वाले अचानक उनके खिलाफ होने से विपक्ष बौखला गया है | उनके पास चुनाव लडने के लिए सक्षम चेहरा नहीं है | एक आदमी जो अपने संयम और मति को भ्रष्टता की ओर अग्रेसर करते हुए निर्लज भाषा का प्रयोग कर सकता है वो भी अंतत: मूल कांग्रेसी दिग्गज नेताओं के कुर्ते को पकडकर चलता है |  

नवाज़ शरीफ ने प्रधानमंत्री के बारे में गैरजिम्मेदाराना बयान दिया या नहीं, वो स्पष्ट हुआ नहीं था | ऐसे में उसी मुद्दे को सोश्यल नेटवर्क से उठाकर किसी राज्य के मुख्यमंत्री ने देश के प्रधानमंत्री की तौहीन कर दी| यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना है | नवाज़ शरीफ के कहने से ज्यादा उस मुद्दे से चुनाव का फायदा उठाने का जरुर सोचा होगा मगर यह नहीं सोचा कि आपके शब्दों से दुनिया के सामने यह मुद्दा अहम साबित हुआ | बहार का कोई अपमान करें तो उसे जवाब दे सकते हैं मगर अपने ही अपमान करें तो देश की एकता और अखंडितता पर बहुत बड़ा प्रश्न चिह्न लगता है | किसी भी राज्य का मुख्यमंत्री यह कहने लगें कि – “आज मुझे पूरी दुनिया सुन रही है” – यह मात्र विधान नहीं हैं, इस विधान के पीछे ज़बरज्स्त अभिमान की हूंकार है, जो उन्हीं को ले डूबेगी | किसी भी राजनेता के भाषण को सुनने भीड़ का इकठ्ठा होना और उसी भीड़ का उसी नेता के पक्ष में मतदान करना अलग बात है | देश की प्रजा सब देख रही है | सजग है और संभल गई है | सत्तापक्ष के खिलाफ अनगिनत भ्रष्टाचार के आरोप लगे हुए हैं | उनकी नाकामी किसी कहानी के राजकुमार की जादुई छड़ी से ‘राम राज्य’ प्रस्थापित कर सकें ऐसा विश्वास हम नहीं कर सकतें |     

देश में हो रहें बलात्कार, दंगे और भ्रष्टाचार जिस तरह से बढ़ रहा है, ऐसे में हम कभी पडौसी देशों से सलामत नहीं रह सकतें | क्यूंकि जिस घर में एकता न हों और आपसी खींचातानी से फुर्सत न हों ऐसे में पडौसी देश सीमा पर हमारे सैनिकों के सर काट सकते हैं | मैंने अहिंसा का मार्ग जरूर दिखाया था मगर आज का समय और स्थिति के अनुकूल देश हित में लिया गया हर ठोस कदम से मैं सहमत हूँ | मैंने यह तो नहीं किया था कि हम परिवर्तन न करें, तरक्की न करें...!  मैंने हमेशा चाहा कि हमसे किसी को नुकसान न हों, देश की भलाई के लिए कार्य करें और साथ मिलकर आगे बढ़ें | मगर मेरे अनगिनत विचारों का विकृत अर्थघटन कईं नेताओं ने अपनी भलाई के लिए किया है | आज मुझे कहना पड़ेगा कि जो व्यक्ति यह कहता है कि मैं गांधी विचारधारा को मानता हूँ | कम से कम उसे अपने आचरण से यह साबित करना होगा, संगठित होना होगा |  

एक बात स्पष्ट कर दूं – देश में चाहें किसी भी पक्ष का नेता अगले चुनाव के बाद प्रधानमंत्री बनें | उन्हें सत्ता को संभालना आसान नहीं होगा | बिना गठबंधन सरकार बनेगी नहीं और जोडतोड की राजनीति का भविष्य उज्जवल होता नहीं है | आज आप जिस पर आरोप लगा रहे हैं, वोही आरोप अलग शब्दों में आपके सामने भी आएगा |  

आप नवाज़ शरीफ की औकात पर सवाल उठा सकते हैं, मगर इतने सालों से चल रहे आतंक का आका तो नापाक धरती से ही पैदा हुआ है | सत्ता के बावजूद भी कठिन है | अगर आप वादे के अनुसार कुछ कर सकेंगे तो देश की सेवा होगी |  ज्यादा कहने से बेहतर कुछ करने में महारत हांसिल करनी चाहिए | दुनिया का सबसे ऊंचा स्टेच्यू हमारे सरदार का होगा ये जरूर कहें मगर ‘स्टेच्यू ऑफ लिबरटी’ से दुगना कहकर अमरीका को आप जाने-अनजाने में क्यूं छेड़ने का मतलब एक और विरोधी हो न्यौता देना | अमरीका और पाकिस्तान जानता है कि भारत के पास ताकत होने के बावजूद नेताओं-दलों की आपसी लड़ाई, भ्रष्टाचार और अपराध के मामलों में उलझे हुए सभी नेता निर्णय कर नहीं सकते और देश की सेना के हाथ में निर्णय लेने का अधिकार नहीं है | ऐसे हालत में हर कोई देश भारत पर ऊंगली उठाएगा | अहिंसा का एक ओर अर्थ है – अपनी ताकत होते हुए भी किसी निशस्त्र या निर्बल पर अत्याचार के रूप में हिंसा न करें | मैंने जरूर कहा था कि एक गाल पर कोई थप्पड़ मारें तो दूसरा गाल धरें | मगर हम पर अत्याचार के रूप में कोई हाथ उठाता है तो उसका कडा मुकाबला करना चाहिए | अगर मैं अन्यायों के खिलाफ लडने की हिमायत नहीं रखता तो हमें अंग्रेजों से आझादी नहीं मिलती | देश के अनगिनत लोगों ने इस देश के लिए रक्त बहाया है | हमारे वीर शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि और सम्मान देने और देश की एकता-अखंडितता के लिए हमें आपस में प्यार से रहना होगा | विपक्ष का मतलब यही है कि सत्ता पक्ष को जागृत रखना | मतलब यह नहीं कि गालियाँ देकर पवित्र संसद को अपवित्र करना |  

आज के दिन मैं आप सभी से हाथ जोडकर प्रार्थना करता हूँ कि अब भी समय है, संभाल जाओ | भ्रष्टाचार के पैसे हमारे काम नहीं आतें | धर्म के नाम पाखंड रचाने वालों का असर भी हमने देखा है | अपने देश के लिए प्यार और समभाव से जिएं और देश की सुरक्षा के लिए पूरी ताकत से कदम बढ़ाएँ| सत्ता मोह से ज्यादा देशप्रेम के लिए कार्य करें|
                                                               जय हिन्द
                                                       मोहनदास करमचंद गांधी 

(चित्र  : अशोक खांट)

48 comments:

  1. बापू जागरूक
    नेता गए
    रूक रूक।

    word verification disable kijiye.

    ReplyDelete
  2. नुक्कड के श्री अविनाश जी,
    आपसे सहमत... आभार ! आज ही इस ब्लॉग का उदघाटन किया है

    ReplyDelete
  3. आदरणीय श्री धरम पाल जी,
    नमस्कार .. बहुत दिनों बाद मिलना हुआ..
    इस ब्लॉग पर आकर आपका विचार रखने के लिए आभारी हूँ ..

    ReplyDelete
  4. समसामयिक पोस्ट ..........

    ReplyDelete
  5. रीटा जी,
    आपका मेरे इस ब्लॉग में स्वागत एवं आभार व्यक्त करता हूँ

    ReplyDelete
  6. नीलिमा जी, आपका स्वागत ... समसामयिक तो जरूर हैं मगर कुछ अपना विचार भी होता...

    ReplyDelete
  7. अहिंसा का एक ओर अर्थ है – अपनी ताकत होते हुए भी किसी निशस्त्र या निर्बल पर अत्याचार के रूप में हिंसा न करें | मैंने जरूर कहा था कि एक गाल पर कोई थप्पड़ मारें तो दूसरा गाल धरें | मगर हम पर अत्याचार के रूप में कोई हाथ उठाता है तो उसका कडा मुकाबला करना चाहिए | अगर मैं अन्यायों के खिलाफ लडने की हिमायत नहीं रखता तो हमें अंग्रेजों से आझादी नहीं मिलती | _____________
    नित्य नित्य नव भाव देने वाला पोस्ट। बड़े भाई को इसके लिए प्रणाम!

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरे प्रिय अनुज,
      मुझे बड़ी खुशी है कि आपने पसंदीदा पंक्तियों को रखते हुए अपने विचार प्रकट किये... मैं आभारी हूँ

      Delete
  8. एक चिठ्ठी बापू के नाम .....सत्य को उजागर करती एक सार्थक पोस्ट

    ReplyDelete
    Replies
    1. अंजू जी,
      आपकी अमूल्य टिप्पणी और आज ही शुरू किए गए इस ब्लॉग में शामिल होने के लिए आभारी हूँ

      Delete
  9. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 03-10-2013 के चर्चा मंच पर है।
    कृपया पधारें।
    धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छा सन्देश, देश हित में .. गाँधी जी के कथन के बहाने ही ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. डॉ. नूतन,
      आपका स्वागत है... धन्यवाद

      Delete
  11. बहुत सुन्दर और सार्थक पोस्ट .. बधाई आप को

    ReplyDelete
    Replies
    1. मीना जी, आपकी उपस्थिति का आनंद प्रकट करता हूँ

      Delete
  12. पंकज जी इस ब्लॉग के लिए आपको शुभकमनयें जिसका प्रारम्भ एक मार्गदर्शक के पद चिन्ह से हुआ है....आगे ऐसे और चराग हमारी सभ्यता, संस्कृति और भाषा की राह को रोशन करेंगे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय देवी जी,
      नमस्कार | आपका इस ब्लॉग पर देखकर बड़ी प्रसन्नता हुई | आपने मुझ पर जो भरोसा जताया है, मैं पूरी कोशिश करूँगा कि मैं वैसा कर सकूं .. आपके स्नेह-आशीर्वाद के लिए आभारी हूँ

      Delete
  13. ज़रुरत हमें खुद को टटोलने की है ... १ रुपये के काल और ८ रुपये के समोसे की स्थिति का विश्लेषण करने की है… बढ़िया लेखन

    ReplyDelete
  14. रश्मि जी, आपने बिलकुल सही कहा .. अमूल्य टिप्पणी के लिए आभार

    ReplyDelete
  15. सार्थक पोस्ट

    ReplyDelete
  16. प्रिय समीर जी (उड़न तश्तरी),
    आपकी अमूल्य टिप्पणी के लिए आभारी हूँ

    ReplyDelete
  17. pankaj ji bahut badiya lekh likha hai aapne..badhai sweekar karein
    regards
    seema sharma

    ReplyDelete
  18. आपकी कलम से जन्में गांधी जी के विचार आज के सन्दर्भ में समसामयिक तो हैं ही प्रयोग करने तथा
    सोचने की सामिग्री भी ,साधुवाद।
    विनीता शर्मा

    ReplyDelete
  19. bahut difficult sthiti ke vishay me patr hai..
    Meena Trivedi

    ReplyDelete
  20. bahut badhiya ,aaj agar bapu hote to wo bhi yahi kahte ...ahinsa ki paribhasha aapne bahut achhi tarah batayee hai ...ham bhartiy sirf ateet me hi jeete hai , vartmaan me nahi ...

    ReplyDelete
  21. सम्माननीय उपासना जी, सीमा शर्मा, विनीता शर्मा और मीना त्रिवेदी
    आप सभी के द्वारा की गई अमूल्य टिप्पणी के लिए मुझे बड़ी खुशी है और हौसला बढाने के लिए मैं आभारी हूँ...

    ReplyDelete
  22. बहुत ही गंभीर भावों की गूढ़ बड़ी गहरी बात आपने इस लेख के जरिये दी है....शानदार अभिव्यक्ति . बहुत बढ़िया बधाई बहुत बहुत पंकज जी

    ReplyDelete
  23. पंकज जी आपकी अभिव्यक्ति में गांधी जी की आत्मा की पुनरागमन का आभास है l काश आपकी बात को नेतागण पढ़ पाते l
    नवीनतम पोस्ट मिट्टी का खिलौना !
    नई पोस्ट साधू या शैतान

    ReplyDelete
  24. सार्थक, सटीक !

    ज़रुरत है आज ऐसे लेख की ..........

    ReplyDelete
  25. सिया जी,
    आपने बिलकुल सही कहा... बहुत जिम्मेदारी से इस गंभीर बात को लिखने का प्रयास जरूर किया है | हौसला अफजाई के लिए शुक्रिया

    ReplyDelete
  26. सम्माननीय कालीपद प्रसाद जी,
    नमस्कार | साहित्यकार जब आलेखन करता है तो कईं मौके पर वो परकाया प्रवेश कर लेता है | शायद यही हुआ है मेरे साथ भी |
    मैं आपका विनम्र भावों से आभारी हूँ

    ReplyDelete
  27. आदरणीय हृदयानुभूति जी,
    मुझे खुशी है कि आपको यह पत्र पसंद आया | धन्यवाद

    ReplyDelete
  28. तुषार जी, धन्यवाद

    ReplyDelete
  29. sunder bahut acha likha h achi shuruat hai
    Kala Pareek

    ReplyDelete
  30. कला जी, आपका आभार

    ReplyDelete
  31. Rajkumar Chunni Sharma
    बहुत सही है सर !! शायद बापू कुछ ऐसा ही सोचते ...
    October 2 at 6:53pm · Unlike · 1

    ReplyDelete
  32. Rajkumar Chunni Sharma
    सर ! आभार तो आपका है जो मौजूद हालात पर इतना अच्छा आर्टीकल पढ़ने को मिला ...

    ReplyDelete
  33. उमेश मौर्य
    इसी पल की प्रतीक्षा थी | ब्लॉग के सुभारम्भ की | जब से नव्या ब्लाक हुई तब से ... आपके साथ साथ साहित्य की राह चलने की ... अब फिर से नव्या समूह के पाठक और रचनाकार एक मंच पर इकठ्ठा हो सकेगे | .... अभिनन्दन ... और हार्दिक ख़ुशी के साथ ...
    October 2 at 8:19pm · Like · 1

    ReplyDelete
  34. दुर्लभ सामग्री उपलव्ध करने के लिए हार्दिक आभार Pankaj Trivedi जी. -
    सहज (डा.रघुनाथ मिश्र ,'सहज').

    ReplyDelete
  35. आपने बहुत ही अच्छा विषय लिया ... बहुत खूब ..! नए ब्लॉग की शुभकामनाये !

    साझा करने के लिए आभार

    साभार ! सह्रदय

    अनुराग त्रिवेदी - जबलपुर

    ReplyDelete
  36. प्रिय अनुराग जी,
    आपकी कदर से मैं खुश हूँ .. क्यूंकि मैंने थोडा हट के ही लिखने का सोचा था |
    बात तो वोही है समसामयिक | जिसे हम सब जानते हैं और टीवी-अखबार में देखते हैं
    आपका आभारी हूँ

    ReplyDelete
  37. Meenakshi Srivastava
    अपने देश के लिए प्यार और समभाव से जिएं और देश की सुरक्षा के लिए पूरी ताकत से कदम बढ़ाएँ| सत्ता मोह से ज्यादा देशप्रेम के लिए कार्य करें - sachchi baat kahi hai in panktiyon men aapne Pankaj trivedi ji .

    ReplyDelete
  38. Jyotsna Singh
    Gandhi ji ne bhi kabhi socha nahi hoga ki hamara desh ki yeh dasha ho jaayegi.

    ReplyDelete
  39. बापू की ही कलम से निकला पत्र, ऐसा लगा!!

    ReplyDelete